Colour River Gems

5.0

Vedic Stone Manufacturer, Birth Stone Manufacturer, Emerald Manufacturers, Gemstone Manufacturer, Imitation Jewelry Manufacturer, Kundan Jewelry Manufacturer, ...

Share :

Description

केतु छठे और राहु बारहवे भाव में हो तथा इसके बीच सारे ग्रह आ जाये तो शेषनाग कालसर्प योग बनता है। शास्त्राोक्त परिभाषा के दायरे में यह योग परिगणित नहीं है किंतु व्यवहार में लोग इस योग संबंधी बाधाओं से पीड़ित अवश्य देखे जाते हैं। इस योग से पीड़ित जातकों की मनोकामनाएं हमेशा विलंब से ही पूरी होती हैं। ऐसे जातकों को अपनी रोजी-रोटी कमाने के लिए अपने जन्मस्थान से दूर जाना पड़ता है और शत्रु षड़यंत्रों से उसे हमेशा वाद-विवाद व मुकदमे बाजी में फंसे रहना पड़ता है। उनके सिर पर बदनामी की कटार हमेशा लटकी रहती है। शारीरिक व मानसिक व्याधियों से अक्सर उसे व्यथित होना पड़ता है और मानसिक उद्विग्नता की वजह से वह ऐसी अनाप-शनाप हरकतें करता है कि लोग उसे आश्चर्य की दृष्टि से देखने लगते हैं। लोगों की नजर में उसका जीवन बहुत रहस्यमय बना रहता है। उसके काम करने का ढंग भी निराला होताहै। वह खर्च भी आमदनी से अधिक किया करता है। फलस्वरूप वह हमेशा लोगों का देनदार बना रहता है और कर्ज उतारने के लिए उसे जी तोड़ मेहनत करनी पड़ती है। उसके जीवन में एक बार अच्छा समय भी आता है जब उसे समाज में प्रतिष्ठित स्थान मिलता है और मरणोपरांत उसे विशेष ख्याति प्राप्त होती है। इस योग की बाधाओं से त्राण पाने के लिए यदि निम्नलिखित उपाय किये जायें तो जातक को बहुत लाभ मिलता है। अनुकूलन के उपाय - • नागपंचमी के दिन दूध-जलेबी का दान करें। • लाल रंग के कपडे की छोटी थैली में खांड या सौंठ भरकर अपने पास रखें • चांदी का ठोस हाथी घर में रखें। • रसोईघर में ही भोजन करें। • प्रत्येक शनिवार जलेबी का दान करें।

Photo Gallery

Colour River Gems -

Write Your Reviews

Writing great reviews may help others discover the places that are just apt for them. Here are a few tips to write a good review:

copyrights © 2018 Myshubratan   All rights reserved.